गरासिया जनजाति राजस्थान | Garasiya Janjati

यह मीणा और भील जनजाति के बाद राज्य की तीसरी सबसे बड़ी जनजाति हैं। इसका प्रमुख निवास क्षेत्र दक्षिणी राजस्थान हैं। राज्य में सर्वाधिक गरासिया जनजाति सिरोही जिले में पाई जाती हैं।

गरासिया जनजाति राजस्थान

ये चौहान राजपूतों के वंशज हैं। गरासिया जनजाति का बाहुल्य सिरोही जिले की आबूरोड एवं पिण्डवाड़ा तहसील, पाली जिले की बाली तहसील एवं उदयपुर जिले की गोगुन्दा एवं कोटडा तहसील में है।

Garasiya Janjati

गरासियों का मूल प्रदेश :- आबूरोड का भाखर क्षेत्र। कर्नल जेम्स टॉड ने गरासियों की उत्पत्ति ‘गवास’ से मानी है जिसका अभिप्राय सर्वेन्ट/नौकर होता है।

गरासिया जनजाति का सामाजिक और पारिवारिक जीवन

भील गरासिया:- यदि कोई गरासिया पुरुष किसी भील स्त्री से विवाह कर लेता है तो उसका परिवार भील गरासिया कहलाता है।

गमेती गरासिया :- यदि कोई भील पुरुष किसी गरासिया स्त्री से विवाह कर लेता है तो उसका परिवार गमेती गरासिया कहलाता है।

सामाजिक परिवेश की दृष्टि से गरासिया तीन वर्गों में विभाजित हैं

  • मोटी नियात
  • नेनकी नियात
  • निचली नियात
  • एकाकी परिवार का प्रचलन।
  • सहलोत/पालवी :- गरासिया जनजाति की पंचायत का मुखिया।
  • घेर :- गरासियों के घर।

सौन्दर्य वृद्धि के लिए गोदने गुदवाने की प्रथा है। गरासिया स्त्रियाँ अत्यधिक श्रृंगार प्रिय होती हैं। इस जनजाति में पितृसत्तात्मक परिवार पाए जाते हैं। इनमें विवाह को एक संविदा माना जाता हैं उसका आधार वधू-मूल्य होता हैं।

  • मोर बंधिया – गरासिया जनजाति का एक विवाह प्रकार जो हिन्दुओं के ब्रह्म विवाह के अनुरूप होता हैं।
  • पहरावना विवाह – इसमें नाम-मात्र के फेरे होते हैं।
  • ताणना विवाह – इसमें कन्या का मूल्य वैवाहिक भेंट के रूप में दिया जाता हैं। इसमें सगाई, फेरे आदि रस्में नहीं होती हैं।
  • गरासिया जनजाति में प्रेम विवाह का अधिक प्रचलन हैं।
  • अट्‌टा-सट्‌टा/विनिमय विवाह :- गरासिया में प्रचलित विवाह जिसमें लड़की के बदले उसी घर की लड़की को बहु के रूप में लेते हैं।
  • खेवणा :- विवाहित स्त्री द्वारा अपने प्रेमी के साथ भागकर विवाह करना।
  • मेलबो विवाह :- गरासियों में प्रचलित इस विवाह में विवाह खर्च बचाने के उद्देश्य से वधू को वर के घर छोड़ देते हैं।
  • इनमें विधवा विवाह का भी प्रचलन हैं।
  • यह जनजाति शिव-भैरव और दुर्गा देवी की पूजा करते हैं।
  • प्रमुख त्योंहार – होली और गणगौर।

गरासिया जनजाति में त्यौहारों का प्रारम्भ आखातीज (वैशाख शुक्ला तृतीया) से माना जाता है। स्थानीय, संभागीय और मनखारों या आम-आदिवासी इत्यादि तीन प्रकार के मेलों का आयोजन किया जाता हैं।

गरासिया के प्रमुख मेले :- कोटेश्वर का मेला, चेतर विचितर मेला, गणगौर मेला, मनखारो मेला, नेवटी मेला, देवला मेला आदि।

  • मनखारो मेला :- गरासिया समुदाय का सबसे बड़ा मेला जो सियावा (सिरोही) में भरता है।
  • गरासियों का पवित्र स्थान :- नक्की झील (माउंट आबू)
  • फालिया – गाँवों में सबसे छोटी इकाई अर्थात् एक ही गोत्र के लोगों की एक छोटी इकाई।
  • मांड :- अतिथि गृह।
  • ओसरा – घर के बाहर का बरामदा।
  • घेण्टी :- गरासिया घरों में प्रयुक्त हाथ चक्की।
  • आणा करना / नातरा प्रथा :- गरासिया जनजाति में विधवा पुनर्विवाह प्रथा।
  • अनाला भोर भू प्रथा :- गरासिया जनजाति में नवजात शिशु की नाल काटने की प्रथा।
  • हुरे :- गरासिया समुदाय में मृतक की याद में बनाया जाने वाला स्मारक।
  • कोंधिया / मेक :- गरासिया समुदाय में प्रचलित मृत्युभोज।
  • प्रमुख नृत्य :- वालर, लूर, कूद, मादल, रायण, मोरिया आदि।
  • गरासिया जनजाति वालर नृत्य के लिए अत्यन्त प्रसिद्ध है जिसमें किसी वाद्य यंत्र का प्रयोग नहीं होता है।
  • हेलरू :- गरासिया समाज की एक सहकारी संस्था।

गरासिया जनजाति की अर्थव्यवस्था

  • इनका मुख्य व्यवसाय पशुपालन व कृषि हैं।
  • 85 प्रतिशत गरासिया कृषि कार्य से जुड़े हुए हैं।
  • ये लोग कृषि श्रमिकों का कार्य करते हैं।
  • हारी-भावरी कृषि :- गरासिया समुदाय में सामूहिक रूप से की जाने वाली कृषि।
  • सोहरी :- गरासिया समुदाय में अनाज भण्डारण की कोठियाँ।
  • गरासिया जनजाति की जनसंख्या समग्र आदिवासी जनसंख्या का 6.70% हैं।
  • गरासिया अत्यन्त अंधविश्वासी होते हैं।
  • गरासिया जनजाति में शव जलाने की प्रथा है।
  • गरासिया सफेद रंग के पशुओं को शुभ (पवित्र) मानते हैं।

हेलमों – गरासिया जनजाति में किसी व्यक्ति द्वारा कार्य करने के लिए रिश्तेदारों, सगे-संबंधियों को आमंत्रित करने एवं बदले में भोज देने की प्रथा।

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!