राजस्थान में साहित्यिक विकास हेतु संस्थाएँ

राजस्थान साहित्य अकादमी

Table of Contents

  • स्थापना :- 28 जनवरी, 1958 को
  • स्थान :- उदयपुर में।
  • कार्य :- राजस्थान में साहित्य की प्रोन्नति एवं प्रचार-प्रसार का कार्य करना।
  • सर्वोच्च पुरस्कार :- मीरां पुरस्कार
  • प्रथम मीरां पुरस्कार :- रामानन्द तिवारी (1959-60)
  • अन्य पुरस्कार :- सुधीन्द्र पुरस्कार
  • डॉ. रांगेय राघव पुरस्कार
  • कन्हैयालाल सहल पुरस्कार
  • कादमी की पत्रिका :- मधुमति (मासिक पत्रिका)।

अकादमी द्वारा समय-समय पर प्रकाशन, साहित्यिक समारोहों का आयोजन युवा व नवोदित लेखों को प्रोत्साहन, राज्य की साहित्यिक संस्थाओं को मान्यता प्रदान करना, पुस्तक, मेलों का आयोजन किया जाता है।

राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी

  • स्थापना :- सन्1983 में।
  • स्थान :- बीकानेर।
  • गतिविधियाँ :- पत्रिका प्रकाशन, पोथी प्रकाशन हेतु सहायता आँचलिक समारोह का आयोजन।
  • कार्य :- राजस्थानी भाषा एवं साहित्य का विकास करना।

पुरस्कार

  • सूर्यमल्ल मिश्रण पुरस्कार
  • गणेशीलाल उस्ताद पद्य पुरस्कार
  • मुरलीधर व्यास कथा सम्मान
  • शिवचन्द भरतिया गद्य पुरस्कार
  • सावर दईया पेली पोथी पुरस्कार

अकादमी की पत्रिका :- जागती जोत (मासिक पत्रिका)

a>

राजस्थान ब्रज भाषा अकादमी

  • स्थापना :- 19 जनवरी, 1986
  • स्थान :-  जयपुर
  • कार्य :- राज्य में ब्रज भाषा का सम्यक प्रचार-प्रसार एवं विकास करना।
  • पत्रिका का नाम :- ब्रज शतदल (त्रैमासिक पत्रिका)

राजस्थान सिंधी अकादमी

  • स्थापना :- सन् 1979 में।
  • स्थान :- जयपुर।
  • कार्य :- सिंधी साहित्य के प्रचार-प्रसार एवं विकास हेतु सम्बन्धित गतिविधियों का संचालन करना।
  • पत्रिका का नाम :- सिन्धुदूत, रिहाण (वार्षिक पत्रिका)।

राजस्थान उर्दू अकादमी

  • स्थापना :- 12 फरवरी, 1979
  • स्थान :- जयपुर
  • उद्देश्य :- उर्दू भाषा एवं साहित्यिक क्रियाकलापों को प्रोत्साहित करना।
  • पत्रिका का नाम :- नखलिस्तान (त्रैमासिक पत्रिका)।

राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी

  • स्थापना :- 15 जुलाई, 1969 को (राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1968 के तहत)
  • स्थान :- जयपुर में।

यह हिन्दी में विश्वविद्यालयी स्तरीय मानक पाठ्य-पुस्तकों एवं संदर्भ ग्रंथों के निर्माण, प्रकाशन तथा हिन्दी भाषा के उन्नयन एवं विकास हेतु कार्य करना।

यह एक स्वायत्तशासी संस्थान है। वर्ष 2005-06 में पारदर्शिता एवं लेखकों की सुविधा के लिए रॉयल्टी का प्रतिदिन का लेखा अकादमी की वेबसाइट पर रखने का प्रावधान करने वाला देश का एकमात्र प्रकाशन गृह बन गया।

मौलाना अब्दुल कलाम आजाद अरबी-फारसी शोध संस्थान

  • स्थापना :- 4 दिसम्बर, 1978
  • स्थान :- टोंक

यह संस्थान अरबी एवं फारसी भाषाओं के ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक अनुसंधान कार्य को सम्पादित करता है।

इस संस्थान का वर्तमान नाम सन् 1987 में रखा गया। इसका प्रारम्भिक नाम अरबी फारसी शोध संस्थान था।

राजस्थान प्राच्य विद्या प्रतिष्ठान

  • स्थापना :- सन् 1951 में।
  • स्थान :- जोधपुर में।

यह संस्थान हस्तलिखित ग्रन्थों के संग्रह, सर्वेक्षण, सम्पादन, प्रकाशन एवं संरक्षण का कार्य करता है।

राजस्थान संस्कृत अकादमी

  • स्थापना :- सन् 1980 में (संस्कृत दिवस – श्रावण पूर्णिमा के दिन)
  • स्थान :- जयपुर

यह अकादमी संस्कृत भाषा को जनमानस में लोकप्रिय बनाने, संस्कृत मौलिक लेखन को प्रोत्साहन, राजस्थान में उपलब्ध संस्कृत साहित्य को प्रकाशित करने तथा नवोदित प्रतिभाओं को प्रकाश में लाने का कार्य करती है।

  • अकादमी का सर्वोच्च पुरस्कार :- माघ पुरस्कार
  • अकादमी की पत्रिका :- स्वरमंगला

अकादमी द्वारा दिये जाने वाले अन्य पुरस्कार

  • आचार्य नवलकिशोर कांकर वेद-वेदांग पुरस्कार
  • पण्डित पन्नालाल जोशी पुरस्कार
  • अम्बिका दत्त व्यास पुरस्कार
  • मधुसूदन ओझा पुरस्कार

पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग

  • सन् 1950 में स्थापित।

यह विभाग प्रदेश में बिखरी हुई सम्पदा तथा सांस्कृतिक धरोहर की खोज, सर्वेक्षण, संरक्षण एवं प्रचार-प्रसार में संलग्न है।

राजस्थान राज्य अभिलेखागार

  • स्थापना :- सन् 1955 में।
  • स्थान :- बीकानेर में।
  • उद्देश्य :- इतिहास की लिखित सामग्री को सुरक्षित रखना।
  • यहाँ मुगलकाल से लेकर वर्तमान सरकार के 25 वर्ष से अधिक पुराने अभिलेखों का संधारण एवं संरक्षण होता हैं।

राजस्थानी पंजाबी भाषा अकादमी

  • स्थापना :- 07 मार्च, 2006
  • स्थान :- श्रीगंगानगर
  • उद्देश्य :- पंजाबी भाषा, साहित्य, कला एवं संस्कृति का संरक्षण एवं संवर्द्धन करना।

श्री रामचरण प्राच्य विद्यापीठ एवं संग्रहालय

  • स्थापना :- सन् 1960 में।
  • स्थान :- जयपुर में।

राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण

  • स्थापना :- 19 अगस्त, 2006
  • स्थान :- जयपुर।

अम्बेडकर पीठ

  • स्थापना :- 14 अप्रैल, 2007
  • स्थान :- मूण्डला (जमवारामगढ़, जयपुर)
  • उद्देश्य :- डॉ. भीमराव अम्बेडकर के सामाजिक, आर्थिक और बौद्धिक चिन्तन को बढ़ावा देना।

 अम्बेडकर पीठ की शासी परिषद के पदेन अध्यक्ष मुख्यमंत्री है।

पं. झाबरमल्ल शोध संस्थान

  • स्थापना :- सन् 2000 में।
  • स्थान :- जयपुर में।
  • सीमान्त साहित्य कला परिषद :- जैसलमेर
  • करणी संग्रहालय :- बीकानेर।
  • भवानी नाट्यशाला :- झालावाड़ में सन् 1921 में महाराजा भवानीसिंह द्वारा पारसी ऑपेरा शैली में निर्मित नाट्यशाला।
  • शिल्पग्राम :- हवाला गाँव (उदयपुर) में 8 फरवरी, 1989 को तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गाँधी द्वारा उद्घाटन।
  • ऑरिएण्टल रिसर्च इंस्टीट्यूट :- जोधपुर।
  • सरस्वती पुस्तकालय :- फतेहपुर (सीकर)।
  • अनूप लाइब्रेरी :- बीकानेर।
  • जैन विश्व भारती :- लाडनूँ (नागौर)।
  • राजस्थान साहित्य कला परिषद :- बालोतरा (बाड़मेर)।
  • सार्दूल राजस्थानी रिसर्च इन्स्टीट्यूट :- बीकानेर
Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!