कथौड़ी जनजाति | Kathodi Janjati

  • यह जनजाति मूलत: महाराष्ट्र की है।
  • विस्तार – उदयपुर जिले की कोटड़ा, झाड़ोल एवं सराड़ा पंचायत समिति।
  • जनसंख्या – 4833

कथौड़ी जनजाति | Kathodi Janjati

  • ये राज्य में बिखरी हुई अवस्था में निवास करती हैं।
  • मुख्य व्यवसाय – खेर के जंगलों के पेड़ों से कत्था तैयार करना।

कथौड़ी जनजाति एकमात्र ऐसी जनजाति है जिसे मनरेगा में 200 दिवस का रोजगार प्रदान किया जाता है।

  • खोलरा – कथौड़ी जनजाति की घास-फूस से बनी झोंपड़ियाँ।
  • नायक – कथौड़ी जनजाति का मुखिया।
  • नृत्य – लावणी नृत्य, मावलिया नृत्य (नवरात्रा) एवं होली नृत्य।
  • आराध्य देवी – कंसारी देवी एवं भारी माता।
  • आराध्य देव – डूंगरदेव एवं वांध देव।
  • कथौड़ी जनजाति की भाषा में गुजराती एवं बागड़ी का मिश्रण है।
  • कथौड़ी जनजाति में स्त्रियाँ पुरुषों के साथ शराब का सेवन करती हैं।
  • कथौड़ी जनजाति पेय पदार्थों में दूध का प्रयोग बिल्कुल नहीं करती है।
  • स्त्री एवं पुरुष में गोदने गुदवाने का रिवाज है।
  • इस जनजाति में आभूषण पहनने का रिवाज नहीं है।
  • कथौड़ी जनजाति का बंदर का माँस अत्यधिक प्रिय है।
  • यह जनजाति प्रकृति पर आश्रित है।
  • यह जनजाति पुनर्जन्म में विश्वास करती है।
  • इस जनजाति में दापा प्रथा एवं विधवा पुनर्विवाह का प्रचलन है।
  • इस जनजाति में मृत्यु भोज प्रथा का प्रचलन भी है।
  • कथौड़ी स्त्रियाँ मराठी अंदाज में साड़ी पहनती हैं जिसे ‘फड़का’ कहते हैं।
  • जनजाति के प्रमुख वाद्य – तारणी, घोरिया, पावरी, टापरा एवं थालीसर।
Spread the love

1 thought on “कथौड़ी जनजाति | Kathodi Janjati”

  1. राजस्थान की कथौड़ी जनजाति के बारे में आपने यहां बहुत ही अच्छी जानकारी दी है यह जानकारी राजस्थान की सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में बहुत काम आएगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!