राजस्थान की हस्तकला

इस पोस्ट में हम आप को राजस्थान की हस्तकला( rajasthan ki hastkala ), राजस्थानी हस्तकला का महत्त्व, राजस्थान में प्रमुख हस्तकलाएँ, rajasthani hastkala, राजस्थानी हस्तकला आदि के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करगे।

राजस्थानी हस्तकला | Rajasthani Hastkala

अर्थ – हाथों द्वारा आकर्षक व कलात्मक वस्तुएँ बनाना हस्तकला या हस्तशिल्प कहलाता हैं।

a>

राजस्थानी हस्तकला का महत्त्व

  • हस्तकला द्वारा रोजगार के अवसर सृजित किए जाते हैं।
  • विदेशी मुद्रा अर्जित करने का महत्त्वपूर्ण स्रोत।
  • स्थानीय लोगों को हस्तकला के क्षेत्र में रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाकर अन्यत्र पलायन करने से रोकना

राजस्थान में प्रमुख हस्तकलाएँ

हाथी दाँत की वस्तुएँ

  • राजस्थान में राजपूत समाज की महिलाओं द्वारा विवाह के समय हाथी दाँत से बना चूड़ा पहनाया जाने की प्रथा हैं।
  • हाथी दाँत के विभिन्न प्रकार के आभूषण (मणिए, पहॅुंचियाँ, अंगूठिया, कर्णाभूषण) जोधपुर मे बड़े पैमाने पर बनाए जाते हैं।
  • पर्यटकों की हाथी दाँत की वस्तुओं की मांग को देखते हुए भरतपुर, मेड़ता, उदयपुर, जयपुर और पाली में भी यह कार्य किया जाता हैं।

मीनाकारी

  • मीनाकारी का कार्य राजस्थान मे प्रमुखतया जयपुर में किया जाता हैं।
  • प्रतापगढ़ की मीनाकारी (थेवाकला) के अन्तर्गत सोने के आभूषणों पर हरे रंग को आधार बनाकर मीनाकारी का कार्य किया जाता हैं।
  • मीनाकारी का कार्य मूल्यवान अथवा सोने से निर्मित हल्के आभूषणों पर किया जाता हैं।
  • मीनाकारी में प्राकृतिक पशु-पक्षियों का अंकन प्राय: किया जाता हैं।
  • पक्की व कच्ची दोनों प्रकार की मीनाकारी की जाती हैं।

मूल्यवान रत्नों की कटाई

  • जयपुर में मूल्यवान व अर्द्धमूल्यवान पत्थरों की कटाई से युक्त विभिन्न प्रकार की आकृतियों से निर्मित आभूषण अपनी जड़ाई, कटाई तथा डिजाईन के कारण विश्व विख्यात हैं।
  • प्राकृतिक व कृत्रिम रत्नों की कलात्मक कटाई व पॉलिश का कार्य वर्तमान में ज्यादा प्रचलित हैं।

लाख एवं काँच से निर्मित

  • लाख से बनाई जाने वाली बहुरंगी चुड़ियों के काँच पर अलग-अलग प्रकार के हीरे चिपकाए जाते हैं।
  • राज्य में जयपुरजोधपुर लाख से निर्मित वस्तुओं के प्रमुख केन्द्र हैं। लाख से बनी चुड़ियों का काम जयपुर, करौली, व हिण्डौन में होता हैं।
  • मोकड़ी – लाख से बनी चुड़ियाँ।

संगमरमर की मूर्तियाँ

  • राज्य में संगमरमर की मूर्तियों का प्रमुख केन्द्र जयपुर हैं। इसके अलावा अलवर के निकट किशोरी ग्राम में भी संगमरमर की मूर्तियाँ व अन्य वस्तुएँ बनाई जाती हैं।
  • ये मूर्तियाँ पौराणिक व धार्मिक विषयवस्तु से संबंधित होती हैं।

पीतल की मीनाकारी

  • प्रमुख केन्द्र – जयपुर और अलवर। यहाँ पर पीतल की मीनाकारी की अनेक सजावटी वस्तुए बनाई जाती हैं।
  • प्रमुख वस्तुएँ – पशु-पक्षी, कलात्मक फूलदान, फलदान, गुलदस्ते, लेम्प स्टैण्ड, दीपदान।
  • बादला – जोधपुर में पानी को ठण्डा रखने हेतु कलात्मक रूप से सजाकर बनाए जाने वाले पानी के बर्तन।

रंगाई, छपाई व बन्धेज के वस्त्र

  • राज्य में ये कार्य नीलगरों अथवा रंगरेजों द्वारा किया जाता हैं।
  • प्रमुख केन्द्र – पाली, सांगानेर, बाड़मेर, बीकानेर।
  • अजरक प्रिन्ट – बाड़मेर।
  • जाजमछपाई – चितौड़गढ़
  • सांगानेरी छपाई – जयपुर
  • लहरिया व मोण्डे – बीकानेर
  • रूपहली व सुनहरी छपाई – चितौड़गढ़, किशनगढ़ व कोटा।
  • बन्धेज – राज्य का बंधेज या मोठड़ा विश्वविख्यात हैं। इसमें शेखावटी व मारवाड़ का बंधेज प्रसिद्ध हैं। जयपुर का लहरिया व पोमचा प्रसिद्ध हैं। 
  • अकोला – चितौड़गढ़ की बंधेज व दाबू प्रिन्ट कला।
  • रवड्ढी की छपाई – जयपुर और उदयपुर में लाल रंग की ओढ़नियों पर गोंद मिश्रित की छपाई के बाद लकड़ी के छापों द्वारा सोने-चाँदी के तवक की छपाई
  • टुकड़ी – मारवाड़ के देशी कपड़ों में सर्वोंत्तम, निर्माण केन्द्र – जालौर व मारोठ (नागौर)।
  • गोटे का कार्य जयपुर, बातिक का कार्य खण्डेला में किया जाता हैं।

कशीदाकारी

  • कशीदाकारी के प्रमुख प्रतीक – मोर, कमल, हाथी तथा ऊँट
  • प्रमुख केन्द्र जयपुर, अजमेर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा,
  • मसूरिया मलमल, कोटा डोरिया साड़ियाँ – कोटा।

चमड़े पर हस्तशिल्प

  • राज्य में जयपुर व जोधपुर की नागरी व मौजड़याँ, जूतियाँ अपनी कशीदाकारी के लिए प्रसिद्ध हैं।
  • प्रमुख केन्द्र – भीनमाल और जालौर की कशीदाकारी वाली जूतियाँ पूरे मारवाड़ में प्रसिद्ध हैं।
  • बडू नागौर – यहा बनने वाली कशीदायुक्त जूतियाँ संयुक्त राष्ट्र संघ की एक परियोजना के तहत, “संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम” के तहत चलाई जा रही हैं।

खिलौने व कटपुतलियाँ

  • राज्य में काट (लकड़ी) से बनी हुई कलात्मक चित्रांकन से युक्त कटपुतलियाँ परम्परागत हस्तशिल्प का अभिन्न अंग हैं।
  • प्रमुख केन्द्र – उदयपुर, बस्सी गाँव (चितौड़गढ़), नागौर, जयपुर
  • रमकड़ा – सोपस्टोन को तराश कर बनाए गए खिलौनों का काम रमकड़ा उद्योग कहलाता हैं। प्रमुख केन्द्र – गलियाकोट (डूंगरपुर)।

लकड़ी पर नक्काशी

  • प्रमुख केन्द्र – बीकानेर, उदयपुर, सवाई माधोपुर व शेखावटी क्षेत्र।
  • लकड़ी के नक्काशीदार दरवाजे – बीकानेर और शेखावटी

कागज बनाने की कला

  • प्रमुख केन्द्र – सांगानेर व सवाई माधोपुर में हाथ से निर्मित कागज

दरी व कालीन

  • प्रमुख केन्द्र – जयपुर, अजमेर, बीकानेर, सालावास (जोधपुर), जालौर, टांकला (नागौर), बाड़मेर, जैसलमेर आदि।
  • बीकानेर में वियना तथा फरसी डिजायनर के गलीचे बनाये जाते हैं।

rajasthani blue pottery

  • जयपुर में चीनी व मिट्टी के सफेद व नीले रंग के तथा फुल, पत्तियों के डिजायनदार बर्तन व खिलौनें बनाये जाते हैं।
  • सुनहरी पेंटिंग पॉटरी – बीकानेर
  • कागजी  – अलवर की डबल कट वर्क की पॉटरी
  • ब्लेक पॉटरी – कोटा की ब्लेक पॉटरी, फुलदानों, प्लेटों व मटकों के लिए प्रसिद्ध हैं।
  • ब्ल्यू पॉटरी – जयपुर की ब्ल्यू पॉटरी विश्वप्रसिद्ध हैं। यह चीनी के बर्तनों पर रंगीन व आकर्षक चित्रकारी हैं।

लोक चित्रांकन

  • फड़ या पड़ – यह राजस्थान में चित्रों के माध्यम से कथा कहने की एक विद्या हैं। यह चित्रण कपड़े या केनवास पर किया जाता हैं।
  • फड़ का वाचन ‘भोपा’ समुदाय द्वारा किया जाता हैं।
  • पिछवई – भगवान कृष्ण की लीला से संबंधित चित्र कृष्ण की मूर्ति के पीछे दीवारों पर लगाये जाने के कारण पिछवई कहलाये जाने लगे। नाथद्वारा की पिछवई प्रसिद्ध हैं।

थेवा कला 

  • यह काँच पर सोने की सुक्ष्म चित्रांकन कला हैं।
  • प्रतापगढ़ की थेवा कला विश्वप्रसिद्ध हैं।
  • इसमें रंगीन बैल्जियम काँच का प्रयोग किया जाता हैं।

काष्ठ कला

  • प्रमुख केन्द्र – जेठाना (डूंगरपुर)
  • जालौर – प्राचीन व मध्यकालीन काष्ठ कला हेतु प्रसिद्ध।
  • बस्सी (चित्तौड़गढ़) गाँव काष्ठ कला के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं।

मथैरण कला

  • प्रमुख केन्द्र – बीकानेर
  • इस कला के साधक धार्मिक और पौराणिक कथाओं पर आधारित देवी-देवताओं के भित्ति चित्र तथा गणगौर, तोरण, ईसर आदि का निर्माण कर इनकों रंगों से सजाने का कार्य करते हैं।

टेराकोटा

  • प्रमुख केन्द्र – मोलेला गाँव (नाथद्वारा, राजसमन्द), बू-नरावता (नागौर)
  • यह मिट्टी की मूर्तियों को बनाने की हस्तकला हैं।

उस्त कला

  • प्रमुख केन्द्र –  बीकानेर
  • बीकानेर में ऊँट की खाल पर स्वर्णिम नक्काशी जिसे उस्त कला कहते हैं, विश्वप्रसिद्ध हैं।
  • प्रमुख कलाकार – हिस्सामुद्दीन।

बुनाई उद्योग प्रमुख केन्द्र

  • मांगरोल – मसूरिया के लिए प्रसिद्ध।
  • कैथून – सूत और सिल्क की बुनाई के लिए प्रसिद्ध ।
  • तनसुख और मथानिया – मलमल के लिए प्रसिद्ध।
  • बीकानेर और जैसलमेर – ऊन के लिए प्रसिद्ध।
  • नापासर – लोई के लिए प्रसिद्ध।

राजस्थान में हस्तशिल्प विकास हेतु सरकारी प्रयास

राजस्थान लघु उद्योग निगम (राजसिको)- राजसिको की स्थापना :- 1969 में।
  • यह केन्द्र राज्य में विलुप्त होती हस्तकलाओं के लिए नवीन प्रौद्योगिकी ज्ञान उपलब्ध करवाकर विभिन्न प्रकार की संस्थाओं के माध्यम से हस्तशिल्पकारों व उद्यमियों का संरक्षण करना हैं।
  • गलीचा प्रशिक्षण केन्द्र – राजसिको द्वारा संचालित तथा अनुसूचित जाति विकास निगम द्वारा वित्त पोषित यह केन्द्र राज्य के विभिन्न जिलों में कार्यरत हैं।
  • राजसिको कमाण्ड एरिया योजना के अन्तर्गत राज्य में विभिन्न स्थानों पर कार्यरत हैं।
  • राजसिको द्वारा ‘राजस्थली एम्पोरियम’ द्वारा राज्य में हस्तशिल्प की वस्तुओं का विपणन किया जा रहा हैं।
  • 1983 में स्थापित भारत सरकार के राष्ट्रीय उद्यम विकास बोर्ड और राष्ट्रीय उद्यमशीलता व लघु व्यापार विकास संस्थान लघु उद्योगो से संबंधित हैं।
  • लघु उद्योग विकास निगम राज्य में लघु उद्योगों को तकनीकी व आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाता हैं।
  • सांगानेर (जयपुर) में हस्तशिल्प कागज राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना संयुक्त राष्ट्र संघ विकास कार्यक्रम व खादी ग्रामोद्योग आयोग के संयुक्त प्रयासों से की गई हैं।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • फड़ पेन्टिंग :- शाहपुरा।
  • लकड़ी के खिलौने :- डूंगरपुर व उदयपुर।
  • मसूरिया-डोरिया की साड़ियाँ – कैथून (कोटा)।
  • संगमरमर पर मीनाकारी का काम जयपुर में होता है।
  • कागज जैसे पतले पत्थर पर मीनाकारी के लिए बीकानेर के मीनाकार प्रसिद्ध हैं।
  • वस्त्रों में टुकड़ी बनाने के लिए जालौर व नागौर का मारोठ गाँव प्रसिद्ध है।
  • ब्लू पॉटरी का जन्मदाता पर्शिया (ईरान) को माना जाता है।
  • थेवा कला का कार्य प्रतापगढ़ के राजसोनी परिवार द्वारा किया जाता है।
Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!