राजस्थान में सभ्यता

my gk book की पिछली पोस्ट में हमने आप को राजस्थान की कई सभ्यता के बारे विस्तार से बताया था इस पोस्ट में हम rajasthan ki prachin sabhyata राजस्थान में सभ्यता ( rajasthan ki sabhyata ) के बारे जानकरी देंगे।

Rajasthan ki prachin sabhyata

    rajasthan me sabhyata

    बरोर सभ्यता

    • बरोर सभ्यता गंगानगर में सरस्वती नदी के तट पर इस सभ्यता के प्रमाण प्राप्त हुए हैं।
    • बरोर सभ्यता वर्ष 2003 में यहाँ उत्खनन कार्य शुरू किया गया।
    • बरोर सभ्यता से प्राप्त अवशेषों के आधार पर बरोर सभ्यता को प्राक् प्रारंभिक तथा विकसित हड़प्पा काल में बांटा गया है।
    • बरोर सभ्यता के मृद‌्भांडो में काली मिट्‌टी के प्रयोग के प्रमाण प्राप्त हुए हैं।
    • वर्ष 2006 में यहाँ मिट्‌टी के पात्र में सेलखड़ी के 8000 मनके प्राप्त हुए हैं।
    • बरोर सभ्यता हड़प्पाकालीन विशेषताओं के समान जैसे सुनियोजित नगर व्यवस्था, मकान निर्माण में कच्ची इटों का प्रयोग तथा विशिष्ट मृद‌्भांड परम्परा आदि से युक्त है।
    • बरोर सभ्यता से बटन के आकार की मुहरें प्राप्त हुई हैं।

    ईसवाल सभ्यता

    • ईसवाल सभ्यता लौह युगीन सभ्यता है।
    • ईसवाल सभ्यता प्राचीन औद्योगिक बस्ती भी कहा जाता है।
    • इस स्थल का उत्खनन कार्य राजस्थान विद्यापीठ, उदयपुर के पुरातत्व विभाग के निर्देशन में किया गया।
    • यहाँ से निरन्तर लौहा गलाने के प्रमाण प्राप्त हुए हैं।
    • यहाँ से प्राक् ऐतिहासिक काल से मध्यकाल तक का प्रतिनिधित्व करने वाली मानव बस्ती के प्रमाण पाँच स्तरों से प्राप्त हुए हैं।
    • ईसवाल सभ्यता पर 5वीं शताब्दी ई.पू. में लोहा गलाने का उद्योग विकसित होने के प्रमाण है।
    • यहाँ से प्राप्त सिक्कों को प्रांरभिक कुषाणकालीन माना जाता है।
    • मौर्य, शुंग, कुषाणकाल में यहाँ लौहा गलाने का कार्य होता था।
    • ईसवाल सभ्यता उत्खनन में ऊँट का दाँत एवं हडि्डयाँ मिली हैं।
    • ईसवाल सभ्यता के मकान पत्थरों से बनाये जाते थे।

    लाछूरा सभ्यता

    • लाछूरा सभ्यता यह पुरातात्विक स्थल भीलवाड़ा जिले की आसींद तहसील में स्थित है।
    • लाछूरा सभ्यता पर उत्खनन कार्य वर्ष 1998-1999 में बी. आर. मीना के निर्देशन में किया गया।
    • लाछूरा सभ्यता से 700 ई. पू. से 200 ई. तक की सभ्यताओं के प्रमाण प्राप्त हुए हैं।
    • यहाँ से मानव तथा पशुओं की मृण्यमूर्तियां, तांबे की चूड़ियां, मिट्‌टी की मुहरें जिस पर ब्राह्मी लिपि में 4 अक्षर अंकित है, ललितासन में नारी की मृण्यमूर्ति आदि प्राप्त हुए हैं।
    • लाछूरा सभ्यता से शुंगकालीन तीखे किनारे वाले प्याले प्राप्त हुए हैं।

    जूनाखेड़ा सभ्यता

    • जूनाखेड़ा सभ्यता इस पुरातात्विक स्थल की खोज गैरिक ने की थी।
    • जूनाखेड़ा सभ्यता से उत्खनन में मिट्‌टी के बर्तन पर ‘शालभंजिका’ का अंकन मिला है।
    • इसके अतिरिक्त यहाँ से काले ओपदार कटोरे तथा छोटे आकार के दीपक प्राप्त हुए हैं।

    नलियासर सभ्यता

    • नलियासर सभ्यता जयपुर स्थित इस पुरातात्विक स्थल से चौहान वंश से पूर्व की सभ्यता के प्रमाण प्राप्त हुए हैं।
    • नलियासर सभ्यता से ब्राह्मी लिपि में लिखित कुछ मुहरें प्राप्त हुई है।
    • नलियासर सभ्यता से आहत मुद्राएँ, उत्तर इण्डोससेनियन सिक्के, कुषाण शासक हुविस्क, इण्डोग्रीक, यौधेयगण तथा गुप्तकालीन चाँदी के सिक्के मिले हैं।
    • नलियासर सभ्यता से 105 कुषाणकालीन सिक्के प्राप्त हुए हैं।
    • इस सभ्यता का समय तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व से छठी सदी तक माना जाता है।

    भीनमाल सभ्यता

    • भीनमाल सभ्यता यहाँ पर उत्खनन कार्य 1953-54 में रतनचंद्र अग्रवाल के निर्देशन में किया गया।
    • भीनमाल सभ्यता के मृद‌्पात्रों पर विदेशी प्रभाव दिखाई देता है।
    • भीनमाल सभ्यताकी खुदाई से मृद‌्भांड तथा शक क्षत्रपों के सिक्के प्राप्त हुए है।
    • भीनमाल सभ्यता से यूनानी दुहत्थी सुराही भी प्राप्त हुई है।
    • यहाँ से रोमन ऐम्फोरा (सुरापात्र) भी मिला है।
    • भीनमाल सभ्यता से ईसा की प्रथम शताब्दी एवं गुप्तकालीन अवशेष प्राप्त हुए हैं।
    • संस्कृत विद्वान महाकवि माघ एवं गुप्तकालीन विद्वान ब्रह्मगुप्त का जन्म स्थान भीनमाल सभ्यता ही माना जाता है।
    • चीनी यात्री हेनसांग ने भी भीनमाल सभ्यता की यात्रा की।

    कुराड़ा सभ्यता

    • कुराड़ा सभ्यता नागौर में स्थित है।
    • यह ताम्रयुगीन सभ्यता स्थल है।
    • यहाँ से ताम्र उपकरणों के अतिरिक्त प्रणालीयुक्त अर्घ्यपात्र प्राप्त हुआ है।

    किराडोत सभ्यता

    • किराडोत सभ्यता जयपुर में स्थित हैं।
    • किराडोत सभ्यता स्थल से ताम्रयुगीन 56 चूड़ियाँ प्राप्त हुई है।
    • इसमें अलग-अलग आकार की 28 चूड़ियों की 2 सेट प्राप्त हुए हैं।

    गरड़दा सभ्यता

    • गरड़दा सभ्यता बूँदी में स्थित है।
    • छाजा नदी के किनारे स्थित इस स्थान से पहली बर्ड राइडर रॉक पेंटिंग प्राप्त हुई है।
    • यह देश में प्रथम पुरातत्व महत्त्व की पेंटिंग है।

    कोटड़ा सभ्यता

    • कोटड़ा सभ्यता झालावाड़ में स्थित है।
    • इस स्थल का उत्खनन वर्ष 2003 में दीपक शोध संस्थान द्वारा किया गया।
    • यहाँ से 7वीं से 12वीं शताब्दी मध्य के अवशेष प्राप्त हुए हैं।

    मलाह सभ्यता

    • मलाह सभ्यता भरतपुर में स्थित है
    • यह स्थल भरतपुर जिले के घना पक्षी अभयारण्य में स्थित है।
    • इस स्थल से अधिक संख्या में तांबे की तलवारें एवं हार्पून प्राप्त हुए हैं।

    कणसव सभ्यता

    • कणसव सभ्यता कोटा में स्थित है।
    • इस स्थल से मोर्य शासक धवल का 738 ई. से संबंधित लेख मिला है।

    नैनवा सभ्यता

    • नैनवा सभ्यता बूंदी में स्थित है।
    • यहाँ पर उत्खनन कार्य श्रीकृष्ण देव के निर्देशन में सम्पन्न हुआ।
    • इस स्थल से 2000 वर्ष पुरानी महिषासुरमर्दिनी की मृण मूर्ति प्राप्त हुई है।

    डडीकर सभ्यता

    • डडीकर सभ्यता अलवर में स्थित है
    • इस स्थल से पाँच से सात हजार वर्ष पुराने शैलचित्र प्राप्त हुए हैं।

    सोंथी सभ्यता

    • सोंथी सभ्यता यह बीकानेर में स्थित है।
    • सोंथी सभ्यता की खोज अमलानंद घोष द्वारा (1953 में) की गई।
    • यह कालीबंगा प्रथम के नाम से प्रसिद्ध है।
    • सोंथी सभ्यता पर हड़प्पाकालीन सभ्यता के अवशेष मिले हैं।

    बांका सभ्यता

    • बांका सभ्यता यह भीलवाड़ा जिले में स्थित है।
    • यहाँ से राजस्थान की प्रथम अलंकृत गुफा मिली है।

    गुरारा सभ्यता

    • गुरारा सभ्यता सीकर जिले में स्थित है।
    • यहाँ से हमें चाँदी के 2744 पंचमार्क सिक्के मिले हैं।

    बयाना सभ्यता

    • बयाना सभ्यता यह भरतपुर में स्थित है।
    • इसका प्राचीन नाम श्रीपंथ है।
    • यहाँ से गुप्तकालीन सिक्के एवं नील की खेती के साक्ष्य मिले हैं।

    तिलवाड़ा सभ्यता

    • तिलवाड़ा सभ्यता बाड़मेर जिले में लूणी नदी के किनारे स्थित पुरातात्विक स्थल है।
    • तिलवाड़ा सभ्यता पर उत्खनन कार्य 1967-68 में ‘राजस्थान राज्य पुरातत्व विभाग’ द्वारा करवाया गया।
    • तिलवाड़ा सभ्यता पर उत्खनन का कार्य डॉ. वी. एन. मिश्र के नेतृत्व में किया गया।
    • तिलवाड़ा सभ्यता एक ताम्र पाषाणकालीन स्थल है जहाँ से 500 ई. पू. से 200 ई. तक विकसित सभ्यताओं के अवशेष मिले हैं।
    • तिलवाड़ा सभ्यता से उत्तर पाषाण युग के भी अवशेष प्राप्त हुए हैं।
    • यहाँ पर उत्खनन से पाँच आवास स्थलों के अवशेष मिले हैं।
    • तिलवाड़ा सभ्यता में एक अग्निकुण्ड मिला है जिसमें मानव अस्थि भस्म तथा मृत पशुओं के अवशेष मिले हैं।

    Spread the love

    Leave a Comment

    Your email address will not be published.

    error: Content is protected !!