Harappa Sanskriti in Hindi

mygkbook की इस पोस्ट में हम आप को हड़प्पा संस्कृति की नगर-योजना ( Harappa Sanskriti in Hindi ) के बारे में बतायगे। इस पोस्ट के जरिए Harappa Sanskriti के बारे में आप को विस्तार से जानकारी प्राप्त होगी

हड़प्पा संस्कृति की नगर योजना

हड़प्पा सभ्यता की नगर योजना का वर्णन इस प्रकार है। हड़प्पा नगर की प्रमुख विशेषता

  • हड़प्पा सभ्यता के नगर दो भागों में बंटे थे।
  • दुर्ग में शासक वर्ग के लोग रहते थे तथा निचले नगर में सामान्य लोग रहते थे।
  • भवन निर्माण में पक्की एवं कच्ची दोनों तरह की ईंटों का प्रयोग होता था।
  • भवन में सजावट आदि का अभाव था।
  • प्रत्येक मकान में स्नानागार, कुएं एवं गंदे जल की निकासी के लिए नालियों का प्रबंध था।
  • सड़कें कच्ची थीं और प्रायः एक-दूसरे को समकोण पर काटती थी।
  • मकानों के दरवाजे मध्य में न होकर एक किनारे पर होते थे।
  • हड़प्पा सभ्यता की जल निकासी प्रणाली
  • हड़प्पा संस्कृति की जल निकास प्रणाली अद्वितीय थी।

हड़प्पा संस्कृति में कृषि

  • हड़प्पा संस्कृति की मुख्य फसल गेहूं और जौ थी।
  • इसके अलावा वे राई, मटर, तिल, चना, कपास, खजूर, तरबूज आदि पैदा करते थे।
  • चावल के उत्पादन का प्रमाण लोथल और रंगपुर से प्राप्त हुआ है।

हड़प्पा शिल्प एवं उद्योग धन्धों

क्या आप जानते है ? हड़प्पा सभ्यता का शिल्प, हड़प्पा सभ्यता की अर्थव्यवस्था किस प्रकार की है

  • धातुकर्मी तांबे के साथ टिन मिलाकर कांसा तैयार करते थे।
  • मोहनजोदड़ों से बने हुए सूती कपड़े का एक टुकड़ा तथा कालीबंगा में मिट्टी के बर्तन पर सूती कपड़े की छाप मिली है।
  • इस सभ्यता के लोगों को लोहे की जानकारी नहीं थी।
  • कांस्य मूर्ति का निर्माण द्रवी – मोम विधि से हुआ है।
  • मोहनजोदड़ो एवं हड़प्पा से प्राप्त मृण्मूर्तियों में पुरुषों की तुलना में नारी मृण्मूर्ति अधिक है।

हड़प्पा संस्कृति में पशुपालन

  • हड़प्पा सभ्यता में पाले जाने वाले मुख्य पशु थे – बैल, भेड़, बकरी, भैंस, सुअर, हाथी, कुत्ते, गधों आदि।
  • हड़प्पा निवासियों को कूबड़वाला सांड विशेष प्रिय था।
  • ऊंट, गैंडा, मछली, कछुए का चित्रण हड़प्पा संस्कृति की मुद्राओं पर हुआ है।
  • हड़प्पा संस्कृति में घोड़े के अस्तित्व पर विवाद है।
  • कालीबंगा से ऊंट की हड्डियां मिली है।

हड़प्पा संस्कृति में पशु

  • मूर्तियां मानव मूर्तियों से अधिक संख्या में पाई गयी है।
  • हड़प्पा में कूबड़ वाले बैलों की मूर्तियां सर्वाधिक संख्या में मिली है।
  • मनका उद्योग का केन्द्र लोथल एवं चन्हुदड़ों था।

हड़प्पा संस्कृति में व्यापार

  • हड़प्पा वासी राजस्थान, सौराष्ट्र, महाराष्ट्र, दक्षिण भारत तथा बिहार से व्यापार करते थे।
  • मेसोपोटामिया, सुमेर तथा बहरीन से उनके व्यापारिक संबंध थे।
  • 2350 ई. पू. के मेसोपोटामियाई अभिलेखों में मेलूहा ( सिन्ध क्षेत्र का ही प्राचीन भाग ) के साथ व्यापार संबंध होने के उल्लेख मिलते हैं।

हड़प्पा संस्कृति में मापतौल

  • मोहनजोदड़ो से सीप का तथा लोथल से एक हाथी दांत का पैमाना मिला है।
  • तौल पद्धति की एक शृंखला 1, 2, 4, 8 से 64 इत्यादि की तथा 16 या उसके आवर्तकों का व्यवहार होता था जैसे -16, 64, 160, 320 और 640।

हड़प्पा संस्कृति में मुहरों

  • मोहनजोदड़ो से सर्वाधिक संख्या में मुहरें प्राप्त हुई है।
  • प्राप्त मुहरों में सर्वाधिक सेलखड़ी की बनी हैं।
  • मुहरों पर एक शृंगी पशु की सर्वाधिक आकृति मिली है।
  • लोथल और देसलपुर से तांबे की मुहरें मिली हैं।
  • हड़प्पा लिपि वर्णात्मक नहीं, बल्कि मुख्यतः भाव चित्रात्मक है।
  • इस लिपि की लिखावट समान्यतया दायीं से बायीं ओर है।
  • हड़प्पाई लिपि को पढ़ने में अभी तक सफलता नहीं मिली है।

हड़प्पा संस्कृति में सामाजिक एवं राजनीतिक स्थिति

  • इस सभ्यता के लोग भोजन में गेहूं, जौ, खजूर एवं मांस खाते थे।
  • सूती एवं ऊनी दोनों वस्त्राें का प्रयोग करते थे।
  • मछली पकड़ना, शिकार करना, चौपड़, पासा खेलना आदि मनोरंजन के साधन थे।

हड़प्पा संस्कृति में धार्मिक मान्यताएं

हड़प्पा सभ्यता की अर्थव्यवस्था समाज और धर्म का वर्णन करें

  • हड़प्पा सभ्यता में कहीं से मंदिर के अवशेष नहीं मिले है।
  • लिंग पूजा के पर्याप्त प्रमाण है जिन्हें बाद में शिव के साथ जोड़ा गया है।
  • पत्थर की कई योनि आकृतियां भी प्राप्त हुर्ह है जिनकी पूजा जनन शक्ति के रूप में की जाती थी।
  • इस सभ्यता के लोग पशुओं की भी पूजा करते थे।
  • वृक्ष पूजा के रूप में पीपल के वृक्ष की पूजा की जाती थी।
  • अग्निपूजा के प्रचलन के भी प्रमाण मिले हैं।
  • हड़प्पा सभ्यता में शव विसर्जन के तीनों तरीके सम्पूर्ण शव को पृथ्वी में गाड़ना, पशु – पक्षियों के खाने के पश्चात् शव के बचे हुए भाग को गाड़ना तथा शव को दाहकर उसकी भस्म गाड़ना प्रचलित था।

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!