प्रायद्वीपीय पठार – भारत के पठार

  • भारत का प्रायद्वीपीय पठार प्रदेश एक अनियमित त्रिभुजाकार आकृति है, जिसका आधार दिल्ली एवं राजमहल की पहाड़ियों के बीच उत्तरी मैदान की दक्षिणी सीमा तथा शीर्ष कन्याकुमारी है।
  • यह पठार भारत का प्राचीनतम भू-खंड है, जिसकी समुद्र तल से औसत ऊंचाई 600 से 900 मी. है।
  • यह पठारी भाग तीनों ओर से पर्वतों द्वारा घिरा हुआ है।
  • इसके उत्तर में अरावली, विन्ध्याचल और सतपुड़ा की पहाड़ियां, पश्चिम में पश्चिमी घाट और पूर्व में पूर्वी घाट स्थित हैं।
  • नर्मदा और ताप्ती (भ्रंश घाटी से गुजरती है) की संकरी श्रेणियों ने इसे दो असमान भागों में बांट रखा है।
  • उत्तरी भाग को मालवा का पठार तथा दक्षिणी भाग को दक्षिण का मुख्य पठार अथवा दक्कन ट्रैप कहते हैं।
  • इस पठार के प्रमुख भाग हैं :

मालवा का पठार

Table of Contents

  • लावा से निर्मित मालवा का पठार काली मिट्टी का समप्राय मैदान बन गया है।
  • यह पठार स्थान-स्थान पर नदियो के प्रवाह के कारण टूट गया है।
  • इस भाग में पूर्व की ओर बघेलखण्ड और पश्चिम की ओर बुन्देलखंड में नदियों द्वारा निर्मित बड़े-बड़े बीहड़ खड्ड पाए जाते हैं, जिनके कारण अधिकांश भूमि खेती के अयोग्य हो गयी है।
  • मालवा पठार के इस लहरदार प्रदेश में कहीं कहीं साधारण ऊंचाई की पहाड़ियां भी मिलती हैं (जैसे ग्वालियर की पहाड़ियां ), किन्तु इन सबमें विन्ध्याचल श्रेणी मुख्य है।
  • यह विंध्याचल, से चंबल नदी के आसपास तथा यमुना के बीच फैला हुआ है।

छोटानागपुर का पठार

  • यह पठार बिहार एवं झारखंड में फैला हुआ है।
  • सोन नदी इस पठार के दक्षिण-पश्चिम में एवं दामोदर नदी पठार के मध्य भाग में पश्चिम से पूर्व दिशा की ओर प्रवाहित होती है।
  • राजमहल पहाड़ियां इस पठार की उत्तरी सीमा बनाती हैं।
  • दामोदर घाटी एक भ्रंश के रूप में है।
  • यह पठार खनिज पदार्थों में धनी है।
  • यहां पर भारत के प्रमुख खनिज बाक्साइट, अभ्रक व कोयला भारी मात्रा में पाये जाते हैं।

मेघालय का पठार

  • यह उत्तर-पूर्व दिशा में मिकिर पहाड़ियों के नाम से फैली है।
  • इस पठार की उत्तरी ढाल खड़ी ढाल है जहां पर ब्रह्मपुत्र नदी बहती है तथा दक्षिणी ढाल धीमी है।
  • गारो, खासी एवं जयन्तियां यहां की प्रमुख पहाड़िया हैं।

तेलंगाना का पठार

  • गोदावरी एवं वर्धा नदी इस पठार की प्रमुख नदियां हैं।
  • गोदावरी नदी इसे दो भागों में बांटती है।
  • इस पठार के दक्षिणी भाग पर उर्मिल मैदान मिलते हैं, जिन पर सिंचाई के लिए तालाब बनाने हेतु उपयुक्त भूमि भी मिलती है।
Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!