ROM – Read Only Memory in Hindi

ROM Memory in Hindi

  • इसका पूरा नाम Read Only Memory हैं।
  • इसमें सूचनाओं को सिर्फ पढ़ा जा सकता हैं।
  • यह स्थायी होती हैं।
  • इसमें कम्प्युटर के निर्माण के समय ही प्रोग्राम संग्रहित किये जाते हैं। जैसे-BIOS ( Basic Input Output System )
  • यह एक Firmware हैं।
  • यह Non-Volatile होती हैं अर्थात् इसमें सूचनाएं तब भी रहती हैं जब कम्प्युटर Off हो जाए।
  • यह तीन प्रकार की होती हैं।

Read Only Memory in Hindi

Types of ROM Memory in Hindi

  1. PROM
  2. EPROM
  3. EEPROM        

PROM – ( Programmable Read Only Memory )

ये कुछ ऐसी रोम चिप होती हैं, जिनमें कोई सूचना पूर्व संचित नहीं होती हैं तथा प्रयोक्ता जो भी इसमें संचित करना चाहता हैं, कर सकता हैं। ये प्रयोक्ता को डाटा संचित करने की सुविधा सिर्फ एक बार ही देता हैं अर्थात् प्रयोक्ता से जो सूचना एक बार संचित कर दी वो स्थाई रूप में संचित हो जाती हैं तथा फिर उनमें किसी भी प्रकार का परिवर्तन संभव नहीं होता हैं।

EPROM – ( Erasable Programmable Read Only Memory )

2 6

यह रोम न सिर्फ हमें सूचना संचित करने की सुविधा प्रदान करती हैं, वरन् हम इस पर जब चाहे पुरानी सूचना हटाकर नई सूचना संचित कर सकते हैं। पुरानी सूचना हटाने तथा नई सूचना संचित करने के लिए कुछ विशेष प्रकार के उपकरण काम में लिए जाते हैं। इस रोम चिप में ऊपर की तरफ एक आर-पार दिखने वाला काँच लगा होता हैं, जहाँ से पराबैंगनी (Ultraviolet) किरणों द्वारा डाटा को हटाया जाता हैं।

EEPROM – ( Electrically Erasable Programmable Read Only Memory )

यह रोम भी (EPROM) की तरह पुनः काम आ सकने वाली होती हैं। इसमें संचित सूचनाओं को हटाने के लिए सामान्य विद्युत किरणों का ही प्रयोग किया जाता हैं।

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!