Month: March 2021

ब्रिटिश प्रशासनिक संगठन

भारत में नागरिक सेवा का जन्मदाता ‘लार्ड कार्नवालिस‘ था। 1800 ई. में लार्ड वेलेजली ने नागरिक सेवा में आने वाले युवा लोगों के प्रशिक्षण के लिए कलकत्ता में ‘फोर्ट विलियम कॉलेज’ खोला। ब्रिटिश प्रशासनिक संगठन 1833 में चार्टर एक्ट ने राज्य के उच्चतम पदों पर भारतीयों की नियुक्ति को कानूनी बना दिया, किन्तु 1793 ई. के कानून की धाराओं के …

ब्रिटिश प्रशासनिक संगठन Read More »

Spread the love

भारत में किसान आंदोलन

भारत में किसान आंदोलन नील विद्रोह का वर्णन ’दीनबन्धु‘ मित्र ने अपनी पुस्तक नीलदर्पण में किया है। इस आन्दोलन की शुरुआत दिगम्बर व विष्णु विश्वास ने की। 1858 ई. से 1860 ई. तक चला यह आन्दोलन अंग्रेज भूमिपतियों के विरुद्ध किया गया। बंगाल में नील कृषकों की हड़ताल कम्पनी के कुछ अवकाश प्राप्त अधिकारी बंगाल तथा …

भारत में किसान आंदोलन Read More »

Spread the love

ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह – नागरिक विद्रोह

ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह संन्यासी विद्रोह (1763-1800 ई.) संन्यासी विद्रोह की स्पष्ट जानकारी बंकिम चन्द्र चटर्जी के उपन्यास ’आनन्दमठ‘ से मिलती है, इस विद्रोह को कुचलने के लिए वारेन हेस्टिंग्स को कठोर कार्यवाही करनी पड़ी थी। अंग्रेजों द्वारा बंगाल के आर्थिक शोषण से जमींदार, कृषक तथा शिल्पी सभी नष्ट हो गए। 1770 ई. में …

ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह – नागरिक विद्रोह Read More »

Spread the love

1857 की क्रांति – भारतीय स्वतंत्रता संग्राम

इस समय गवर्नर जनरल लार्ड केनिंग था। विद्रोह का आरम्भ 10 मई, 1857 को मेरठ में पैदल टुकड़ी से हुआ। इससे पहले 29 मार्च, 1857 को बैरकपुर (प. बंगाल) के 34वीं एन. आई. रेजीमेंट के सैनिक मंगल पांडे ने अपने सार्जेन्ट की हत्या कर दी, परिणामस्वरूप 34वीं एन.आई. को भंग कर दिया गया। 1857 की …

1857 की क्रांति – भारतीय स्वतंत्रता संग्राम Read More »

Spread the love

राजस्थान की भूगर्भिक संरचना

किसी भी प्रदेश की भूगर्भिक संरचना का संबंध वहाँ पाई जाने वाली शैलों (चट्‌टानों) की संरचना व उद्‌भव से होता है तथा उच्चावच का संबंध उस क्षेत्र की भूमि पर विद्यमान विविध-भूस्वरुपों से होता हैं। ये दोनों पृथक-पृथक न होकर एक-दूसरे से अन्तर्सम्बन्धित होते हैं। भू संरचना ही उस क्षेत्र के उच्चावच का निर्धारण करती …

राजस्थान की भूगर्भिक संरचना Read More »

Spread the love

राजस्थानी खान-पान

सिरावण :– ग्रामीण क्षेत्र में सुबह का भोजन। सुबह के भोजन को कलेवा भी कहा जाता है।   भात/रोट :– दोपहर का भोजन जिसमें जौ, मक्का एवं बाजरे की रोटी तथा मिर्ची, छाछ, दही व हरी सब्जियां होती है। ब्यालू :– शाम का भोजन। सोगरा :– बाजरे के आटे से बनी मोटी रोटी जो आकरी सेकी जाती …

राजस्थानी खान-पान Read More »

Spread the love

जनजाति विकास कार्यक्रम

बांसवाड़ा जिले में कुशलगढ़ में वर्ष 1956 में बहुउद्देशीय जनजातीय विकास खण्ड प्रारम्भ किया गया था। परिवर्तित क्षेत्र विकास कार्यक्रम यह कार्यक्रम मीणा बहुल दक्षिणी व दक्षिणी पूर्वी जिलों में शुरू की गई थी। उद्देश्य इस योजना का लक्ष्य जनजातियों के जीवन स्तर को ऊपर उठाना तथा बेरोजगारी को दूर करना। इस योजना में पेयजल, ग्रामीण …

जनजाति विकास कार्यक्रम Read More »

Spread the love

राजस्थान की जनजाति विवरण

आदिवासी या जनजाति – ये लोग सभ्यता के प्रभाव से वंचित रहकर अपने प्राकृतिक वातावरण के अनुसार जीवन यापन करते हुए अपनी भाषा, संस्कृति, रहन-सहन आदि को संरक्षित किए हुए हैं। राजस्थान की जनजाति विवरण राजस्थान भारत के 6 जनजाति बहुल राज्यों में से एक हैं। राजस्थान का समूचा दक्षिणी पहाड़ी क्षेत्र एवं दक्षिणी पूर्वी पठारी …

राजस्थान की जनजाति विवरण Read More »

Spread the love

कालबेलिया जनजाति | Kalbaliya Janjati

कालबेलिया जनजाति जनसंख्या – 1,31,911 निवास क्षेत्र – पाली, जोधपुर, राजसमंद, सिरोही, अजमेर, चित्तौड़, उदयपुर, राजसमन्द आदि। नृत्य एवं गायन में दक्ष। प्रमुख वाद्य – बीन एवं डफ। प्रमुख नृत्य – इंडोणी, शंकरिया, पणिहारी, बागड़िया आदि। गुलाबो – इस जनजाति की प्रसिद्ध नृत्यांगना, इन्होंने कालबेलिया नृत्य को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान प्रदान की है। कालबेलिया को साँप पालक जाति माना जाता है। …

कालबेलिया जनजाति | Kalbaliya Janjati Read More »

Spread the love

नट जाति राजस्थान | Nat Jati

जनसंख्या – 65894 निवास क्षेत्र – अलवर, जोधपुर, जयपुर, पाली, टोंक, भीलवाड़ा, अजमेर आदि। करतब दिखाने में माहिर जाति। कठपुतली नृत्य में माहिर जाति। जाति बागरी – खेतों की रखवाली कर अपना भरण-पोषण करने वाली जाति। कहार – पालकी उठाने एवं घरों में पानी भरने का कार्य कर अपना जीवनयापन करने वाली जाति। ओड़ – मिट्‌टी खोदने, पत्थरों को खोदने …

नट जाति राजस्थान | Nat Jati Read More »

Spread the love
error: Content is protected !!