Month: January 2021

राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र

Folk Instruments of Rajasthan, राजस्थान के लोक वाद्य यंत्र, घन वाद्य,सुषिर वाद्य, तत् वाद्य, अवनद्ध वाद्य, मंजीरा, झांझ, थाली, रमझौल, करताल, खड़ताल, झालर, घुंघरु, घंटा, घुरालियां, भरनी, श्रीमंडल, झांझ, कागरच्छ, लेजिम, तासली, डांडिया, चंग, डफ, धौंसा, तासा, खंजरी, मांदल, मृदंग, पखावज, डमरू, ढोलक, नौबत, दमामा, टामक (बंब), नगाड़ा, बांसुरी, अलगोजा, शहनाई, पूंगी, सतारा, मशक, नड़, मोरचंग, सुरणाई, भूंगल, मुरली, बांकिया, नागफनी, टोटो, करणा, तुरही, तरपी, कानी, जन्तर, इकतारा, रावणहत्था, चिंकारा, सारंगी, कामायचा, सुरिन्दा, रबाज, तन्दूरा, रबाब, दुकाको, सुरिन्दा, भपंग, सुरमण्डल, केनरा, पावरा,

Spread the love

राजस्थान के लोक देवता

राजस्थान के लोक देवता, rajasthan ke lok devta notes, मारवाड़ के पंच पीर, गोगाजी चौहान, पाबूजी राठौड़, राजस्थान में फड़ निर्माण, हड़बूजी, रामदेवजी, रामदेवजी से जुड़ी रचनाएँ, मेहाजी, तेजाजी, देवनारायणजी, देव बाबा, वीर कल्लाजी राठौड, भूरिया बाबा (बाबा गौतमेश्वर), मल्लीनाथ जी, बाबा तल्लीनाथ, वीर फत्ताजी, बाबा झूंझारजी, वीर बिग्गाजी, डूंगजी-जवाहरजी (गरीबों के देवता), हरिराम बाबा, पनराजजी, केसरिया कुंवरजी, भोमियाजी, मामादेव, लोक देवता,

Spread the love

राजस्थान के लोक देवी

rajasthan ke lok devi, राजस्थान के लोक देवी, करणी माता, जीण माता, जीण माता का मंदिर, कैला देवी, शिला देवी, जमुवाय माता, आईजी माता, राणी सती, आवड़ माता, स्वांगियाजी माता, शीतला माता, सुगाली माता,

Spread the love

अलवर के मंदिर | Alwar Mandir GK

Alwar Mandir GK, अलवर के मंदिर, नारायणी माता का मंदिर, रथ यात्रा, विजयमंदिर, भर्तृहरि मंदिर, पांडुपोल हनुमान जी का मंदिर, नीलकण्ठ महादेव मंदिर, चंद्रप्रभु जैन मंदिर

Spread the love
error: Content is protected !!